Showing all 9 results

American Grape

75.00
Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus error sit voluptatem accusantium doloremque laudantium, (more…)
Read more

Fresh Salad

40.00
Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus error sit voluptatem accusantium doloremque laudantium, (more…)
Read more
Sale!

Kakdi (कखड़ी)

50.00 45.00

Shop Kakdi (कखड़ी) Online

ये पहाड़ी खीरा है. उत्तराखंड में इसे 'कखड़ी' कहते हैं. जून से लेकर सितंबर महीने तक इसकी पैदावार होती है. इसका वैज्ञानिक नाम Cucumis Sativus L. जो की Cucurbitaceae कुल के अंतर्गत आती है। पहाड़ी ककड़ी में प्राकृतिक मिनरल्स तथा विटामिन्स प्रचूर मात्रा में हाने के कारण स्थानीय लोगों द्वारा कृषि कार्यों के दौरान खेतों में एक ऊर्जा के विकल्प में खूब पंसद किया जाता है। गढ़वाल और कुमाऊं में कखड़ी का रायता भी बहुत प्रसिद्ध है. आइये जानते है कखड़ी खाने के फायदे:-
  • इसमें एल्केलॉइडस, ग्लाइकोसाइड्स, स्टेरोइड्स, केरोटीन्स, सेपोनिन्स, अमीनो एसिड, फलेवोनोइड्स तथा टेनिन्स आदि रासायनिक अवयव पाये जाते है।
  • ककडी में पोषक तत्व तथा मिनरल्स प्रचूर मात्रा में पाये जाते है तथा इसमें मौजूद विटामिन्स-’ए’, ’बी’ तथा ’सी’ की मात्रा होने से यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढाने में सहायता करती है।
  • इसमें ऊर्जा-16 किलो कैलोरी, कार्बाइाइड्रेट-3.63 ग्रा0, डाइटरी फाइबर- 0.5 ग्रा0, वसा- 0.11 ग्रा0, प्रोटीन- 0.65 ग्रा0, फोलेट्स- 7.0 मी0ग्रा0, विटामिन ’बी’- 0.25 मि0ग्रा0, विटामिन ’सी’- 2.8 मि0ग्रा0, विटामिन ’k – 16.4 मि0ग्रा0, सोडियम- 2.0 मि0ग्रा0, पोटेशियम- 14.7 मि0ग्रा0, फोस्फोरस- 24 मि0ग्रा0, कैल्शियम- 16 मि0ग्रा0, कॉपर- 0.17 मिग्रा0, आयरन- 0.3 मि0ग्रा0, मैग्नीशियम- 13 मि0ग्रा0, मॅग्नीज़ – 0.08 मि0ग्रा0, फ्लोराइड- 1.3 मि0ग्रा0 तथा जिंक- 0.2 मि0ग्रा0 तक की मात्रा में पाये जाते है।

साभार: डा0 राजेन्द्र डोभाल

by Girish Kotnala Read more
Sale!

Linguda (लिंगुड़ा)

100.00 85.00

Shop Linguda (लिंगुड़ा) Online

Linguda/Lingoda/Lingda (Diplazium Esculentum), the vegetable fern, is an edible fern found throughout Asia and Oceania. It is probably the most commonly consumed fern and also known as Linguda/Lingoda/Lingda in northern India, referring to the curled fronds. The young fronds are stir-fried as a "vegetable" or used in salads. बरसात के दिनों में उत्तराखंड में एक सब्जी की डिमांड बढ़ जाती है और वो हैं लिंगड़ा। लिंगुड़ा देखने में जितने सुन्दर होते हैं खाने में उतने ही स्वादिष्ट और पौष्टिक होते हैं। लिंगड़ा गाड़ – गधेरों के आस – पास पाए जाते हैं। विदेशों में भी इसकी काफी मांग होती है और इसे अचार और सलाद के रुप में भी खाया जाता है। सब्जियां तो बहुत खायी हैं, लेकिन पहाड़ी सब्जी वो भी लिंगुड़ा, मजा ही कुछ और है। पुरातन काल से ही ऋषि मुनियों एवं पूर्वजों द्वारा पौष्टिक तथा रोगों के इलाज के लिए विभिन्न प्रकार के जंगली पौधों का उपयोग किया जाता रहा है। यह जंगलों में स्वतः ही उगने वाली फर्न है, जिसका उपयोग हम ज्यादा से ज्यादा सब्जी बनाने तक ही कर पाते हैं। आइये जानते है लिंगड़ा खाने के फायदे:-
  • लिंगडे मे कैल्शियम, पोटेशियम तथा आयरन प्रचुर मात्रा होने के कारण एक अच्छा प्राकृतिक स्त्रोत भी माना जाता है।
  • इसमें प्रोटीन 54 ग्राम, लिपिड 0.34 ग्राम, कार्बोहाइड्रेट 5.45 ग्राम, फाइबर 4.45 ग्राम/100 ग्राम, विटामिन C- 23.59 mg , B- Caropenoid 4.65 mg, Phenolic – 2.39 mg/100g पाया जाता है।
  • इसके अलावा इसमें मिनरल्स Fe-38.20 mg, Zin- 4.30 mg, Cu-1.70mg, Mn-21.11, Na- 29.0, K-74.46, Ca- 52.66, Mg- 15.30mg/100g पाये जाते है।
  • लिंगडा में सबसे अधिक Alpha- Glycosidase inhibitory का गुण होता है जिससे लिंगडा मधुमेह के लिये अत्यंत लाभकारी फर्न है।
  • अफ्रिकन जरनल ऑफ फार्मेसी 2015 में प्रकाशित लेख के अनुसार लिंगडा में मौजूद Flavanoids तथा Sterols की वजह से बेहतर Analgesic गुण पाये जाते है।
  • लिगड़ा ताजा तथा पकने के बाद भी Antioxidative गुण तथा Alpha-tocopherol गुण भरपूर पाये जाता है।
  • मलेशिया जरनल ऑफ माइक्रोब्यालाजी के 2011 के अध्ययन के अनुसार अगर लिंगुडा को Poultry Feed के साथ मिलाया जाय तो यह Poultry में सूक्ष्म जीवाणुओं द्वारा जनित बीमारियों को कम कर देता है।
  • लिगड़ा की पत्तियों का पाउडर औद्योगिक रूप से बायोसेन्थेसिस ऑफ सिल्वर नैनो पार्टीकल्स (Ag NPs) के लिये प्रयुक्त किया जाता है क्योंकि लिगड़ा की पत्तियां Reductant तथा स्टेबलाईजर का कार्य करती हैं।

साभार: डा0 राजेन्द्र डोभाल

by Girish Kotnala Read more

Pahadi Aaloo (पहाड़ी आलू)

40.00
आलू के बगैर लगभग हर सब्जी अधूरी लगती है| आलू का इस्तेमाल सब्जी बनाने के लिए तो होता ही है इससे और भी चीजें बनायीं जाती है आलू के पराठे तो सभी को पसंद होते है| इससे चिप्स फिंगर फ्राई भी बनते है| Almost every vegetable is seen incomplete without potatoes. Potato is used to make a vegetable, but more things are made from it, so the potato's paratha is liked by everyone. This makes Chips Finger Fry also.
by Girish Kotnala Read more

Pointed gourd (कुंदरू)

60.00
कुंदरू एक ऐसी सब्जी है सब्जी के अलावा इसके फूल और पत्ते भी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें पानी की मात्रा बहुत अधिक होती है। साथ ही इसमें प्रोटीन, कैल्शियम और कार्बोहाइड्रेट्स भी होता है। कुंदरू खाने से पथरी की संभावना कम होती है। जिनकी किडनी पथरी है वो अगर कुंदरू का सेवन करते हैं तो पथरी निकल जाती है। Kundru is such a vegetable, besides its vegetable, its flowers and leaves are also very beneficial for health. The amount of water in it is very high. It also contains proteins, calcium and carbohydrates. By eating kunduru, there is less chance of calculus. Those who have Kidney stones, if they use Kunduru then the stone leaves.
by Girish Kotnala Read more

Snake Gourd (चिचिंडा)

60.00
चिचिंडा एक गर्मियों में मिलने वाली सब्जी है। उत्तराखंड में ये सब्जी काफी मात्रा में होती है| जिसको सब्जी, भुजिया बनाकर खाते है। चिचिंडा लंबे आकार का और हरे रंग का होता है जिसमे सफेद धारिया होती है। चिचिंडा में काफी मात्रा में पोषक तत्व होते है। इसमे विटामिन C, मिनरल्स, कैल्शियम, आयरन पाया जाता है। इसका सेवन पीलिया होने पर भी किया जाता है। पीलिया जैसी बीमारियो में इसका सेवन करने से लीवर को ठीक करने में सहायता करता है। Snake Gourd (Chichinda) is a summer vegetable. In Uttarakhand, this vegetable is in great quantity. Whom eating vegetables, Bhujia. Chichinda is long-sized and green in color with white eyes. Chichinda contains a large amount of nutrients. It contains vitamin C, minerals, calcium, iron. It is also used on jaundice. By taking it in diseases like jaundice, it helps in fixing the liver.
by Girish Kotnala Read more
Sale!

Sweet Mango

55.00 40.00
Sed ut perspiciatis unde omnis iste natus error sit voluptatem accusantium doloremque laudantium, (more…)
Read more

पहाड़ी अरबी (गडेरी)

आपने पहाड़ी अरबी (गडेरी) की सब्जी जरूर खाई होगी। पहाडो में सभी जगहा में अरबी खायी जाती हैं। इसमें विटामिन, पोटेशियम, कैल्शियम, प्रोटीन के अलावा आयरन आदि महत्वपूर्ण पोषक तत्व रहते हैं। अरबी शरीर को ताकत देती है। अरबी में भारी फाइबर और कैलोरी की कम मात्रा की वजह से यह वजन घटाने का काम करती है। अरबी के और क्या-क्या फायदे हैं वैदिकवाटिका आपको जानकारी दे रही है। पहाड़ी अरबी (गडेरी) के फायदे या गुण आपके लिए पहाड़ी अरबी (गडेरी) में मौजूद गुण चेहरे से सबंधित समस्या को ठीक करते हैं। और त्वचा पर पड़ी झुर्रियों को भी ठीक करते हैं।अरबी खाने से गुर्दे, मांसपेशियां और शरीर की नसें सभी ठीक रहकर काम करती हैं। इसमें मौजूद पोटेशियम शरीर को कमजोरी नहीं आने देता है। ब्ल्डप्रेशर के रोगियों को रोज अपने खाने में अरबी का प्रयोग करना चाहिए। अरबी ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखती है। अरबी डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होती है। अरबी आपको डिप्रेशन व अवसाद से भी बचाती है। जिस वजह से आपको अच्छी नींद भी आती है। दिल की बीमारियों से बचने के लिए अरबी की सब्जी का सेवन करना चाहिए। यह कम वसा और कम कोलेस्ट्राल वाली होती है। विटामिन ई और फाइबर की अधिक मात्रा होने से यह दिल की सेहत अच्छी रखती है।
by Girish Kotnala Read more